Romantic shayari -हिन्दी शायरी - रोमांटिक शायरी

Romantic shayari -हिन्दी शायरी -shayarikepanne

Hello दोस्तो आज हम आप लोगों के लिए Romantic Shayari collection लेके आए हैं जो हर मोहब्बत करने वाला पढना चाहेगा।
Romantic Shayari-1


ऐसा नहीं कि मुझे कभी प्यार नहीं हुआ।
मेरे सीने मे भी दिल है यारो 
बस अब ये धडकने से डरता है।

Essa nahi hii ki mughe kabhi pyar nahi hua
mere ceene me bhi dil hii yaro
Bus abb ye dhadkane se darta hii

Romantic shayari-2


आज भी जब देखता हू तुझे दिल कि धडकन थोड़ी रुक सी जाती हैं।
बीना नजरें मिलाऐ पूरी भीड़ मे बस तू ही नजर आती हैं।

Aaj bhi jab dekhta hu tughe to dil ki dhadkan thodi ruk si jati hii
Bina nazre milaye puri bhid me bus tu hi nazar aati hii

Romantic shayri -3


वो भी क्या दिन थे जब तू मेरे साथ थी ।
भले ही दूर थी तू मुझसे
 कम से कम दिल के तो पास थी।
 ऐसा नहीं है कि मैं टूट गया हू तेरे जाने के बाद
 बात बस इतनी है कि
 जब तू पास थी न यार तो जिन्दगी मे भी कुछ बात थी  ।

Vo bhi kya din the jab tu mere sath thi
Bhale hi dur thi tu mughse
 kam se kam dil to pas thi
essa nahi hii ki tut gaya hu me tere jane ke bad
bat bus itni si hii ki
Jab tu pass thi na yaar to
jindgi me bhi kuch bat thi

Romantic shayari -4


मेरा दिल इतना कमजोर नहीं कि तेरे धोखे से टूट जाए
लोहे का दिल हैं मेरी जान 
याद कर कल इसी पे मर मिटी थी।

Mera dil etna kamjor nahi
Ki tere dhoke se tut jaye
Lohe ka dil hii meri jaan
Yaad kar kal issi pe mar miti thi

Romantic Shayari-5

Romantic Shayari

सिर्फ बातों से तेरी मैं दीवाना हुआ
उन बातों को भी अब जमाना हुआ।
मिल ले मुझसे कहीं एक बार ही सही
तेरा मुझको सताना अब ज्यादा हुआ।

Sirf baato se teri me diwana hua
In bato ko bhi abb jamana hua
 Mil le mughse kahi ek baar hi sahi Tera mugko satana abb jyada hua

Romantic Shayari-6

Romantic Shayari

मिल के तुझसे कहू बाते दिल कि सभी
आग दिल की ये मेरी बुझेगी तभी।
मान भी जा मेरी जान यू सोचा न कर 
अपने दिल को तू इतना भी रोका न कर।

Mil ke tujhse kahu bate dil ki sabhi Aag dil ki ye meri bujhegi tabhi
Maan bhi ja meri jaan U socha na kar Apne Dil ko tu itna bhi roka na kar

Romantic Shayari -7

Romantic Shayari

दिन बीते बस तेरी जुल्फों की छाव मे
तम्मना यही अब सबेरे शाम हैं।
तू मिल जा कही मेरे दिल के गाँव मे
 दिन बीते फिर पीपल की छाव मे।

Din beete abb teri julfo ki chau me
Tammna yahi abb sabere saam hii
 Tu mil ja kahi mere dil ke gauo me  Din beete fhir pipal ki chau me

(अगर आपको यह पसंद आये तो please share and comments and follow this website and also follow our facebook page )
{Thanks}

0 comments: